Sunday, December 23, 2012

आर. एस. तिवारी का *दिल हो गईल कुर्बान*

कहते हैं कि *होनहार बीरवान के होत चिकने पात* यह कहावत चरितार्थ होती है सफल व्यवसायी, फिल्म निर्माता तथा अभिनेता *आर. एस तिवारी* पर, जिन्होंने कम उम्र में ही पूरे राजस्थान तथा गुजरात में अपना व्यवसाय फैला रखा है। जी हाँ, महज 26 वर्ष की उम्र में एक बड़ा व्यवसायिक स्तम्भ खड़ा कर लेना अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है। सदर (पाण्डव वासी), प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश के मूल निवासी *आर. एस. तिवारी (रमा शंकर तिवारी)* कई सालों से व्यापार जगत में अच्छे व्यवसायी के रूप में जाने जाते है, परन्तु भोजपुरी माटी में पले बढ़े तथा भोजपुरिया प्रेम की वजह से बतौर निर्माता और नायक सम्पूर्ण पारिवारिक, पूरी तरह से भारतीय एवं स्वस्थ मनोरंजक पूर्ण फिल्म *दिल हो गईल कुर्बान* के निर्माण की बुनियाद रख दी और अब मुंबई में पोस्ट- प्रोडक्शन का कार्य तेजी से किया जा रहा है। मुख्य भूमिकाओं में रमा शंकर तिवारी, मोहिनी घोष, अविनाश शाही, प्रिया शर्मा, सोनिया मिश्रा, पूनम वर्मा, गोपाल राय। बिपिन सिंह, विष्णु शंकर बेलू , राज कपूर शाही, यशवंत कुमार जायसवाल, सुशिल कुमार सिंह, राहुल, समीर, टोनी, संजय, मुकेश, शत्रुघ्न तिवारी, डी के शुक्ला तथा दीपक भाटिया है। आइटम नृत्य- सीमा सिंह एवं मेहमान भूमिका में हीरालाल यादव हैं। एक सवाल के जवाब में *आर. एस. तिवारी* ने कहा कि **मैं अक्सर भोजपुरी फिल्मों को देखता रहता हूँ मगर हमारी कला और संस्कृत को अक्सर नज़र अंदाज़ कर दिया जाता है, जिससे भोजपुरी फिल्मों की छवि निरंतर बिगडती जा रही है।इसी बात को मद्दे नज़र रखते हुए मैंने एक अलग विषय के माध्यम से नयापन देने की कोशिश किया है, उम्मीद हैं कि मातृभाषा से जुडी हुयी स्वस्थ मनोरंजकपूर्ण मेरी यह फिल्म सिनेप्रेमियों को बहुत पसंद आएगी।** गौरतलब है कि निर्माता एवं अभिनेता - आर. एस. तिवारी की निर्माण कम्पनी द्वारा *दिल हो गईल कुर्बान* के अलावा कई अन्य बेहतरीन फिल्मों के निर्माण पर कार्य चल रहा है, जिसका विषय इतिहास रचने जैसा होगा।