Monday, December 31, 2012

अलविदा 2012 स्वागतम 2013

आप सभी को आपके अपने रवि किशन का प्रणाम . साल 2012 का आज आखिरी दिन है और कल हम नए साल में प्रवेश कर जायेंगे , अर्थात इस साल मैं आखिरी बार अपने दिल का हाल आपसे बयान कर रहा हूँ . इसीलिए सबसे पहले आप सभी को नए साल की हार्दिक शुभकामनाये। सबसे पहले आप सभी को नए साल की ढेर सारी बधाई , आने वाले साल में आपके सारे सपने पूरे हो यही दुआ है मेरी। जब भी साल की समाप्ति होती है हर कोई पूरे साल में क्या खोया क्या पाया यह सोचता जरुर है . हर इंसान नव बर्ष के आगमन पर अपने उन सपनो के बारे में सोचता है जिसे वो पिछले साल पूरा नहीं कर पाया है, जो अधुरा रह गया है . यानी वह अपने हर काम का आकलन करता है . जहां तक मेरी बात है तो साल 2012 मेरे लिए एक बहुत ही अच्छा साल रहा है . इस साल भी मेरी रिलीज़ फिल्मो की संख्या सबसे अधिक रही है . हिंदी और भोजपुरी मिला कर इस साल मेरी 11 फिल्मे रिलीज़ हुई है जिनमे हिंदी में चालीस चौरासी , डेंजरस इश्क, जीना है तो ठोक डाल , भोजपुरी में कैसन पियवा के चरित्तर बा, ज्वालामंडी , केहू हमसे जीत ना पाई आदि प्रमुख है . हम कलाकार लोग हमेशा चाहते हैं की उसे दर्शको का प्यार मिलता रहे क्योंकि उस से ही हमें ऊर्जा मिलती है , ताकत मिलती है और नए जोश का संचार होता है . अपने माता पिता के आशीर्वाद से मुझे आप लोगो का भरपूर प्यार मिलता रहा है और मैं जहां भी गया आप लोगो ने मुझे सराहा। यह आपका प्यार ही है की मुझे सिर्फ अपने देश में ही नहीं विदेश में भी सम्मान मिला . आपको याद होगा की मुझे मौरिशास सरकार ने भोजपुरिया महानायक व भोजपुरी के भागीरथी के अवार्ड से सम्मानित किया था और भोजपुरी फिल्म जगत का मैं एकलौता कलकार हूँ जिसे वहाँ आयोजित अप्रवासी भारतीय दिवस में बतौर स्पीकर आमंत्रित किया गया था। यह सम्मान कहने को तो मुझे अब तक मिले सौ से भी अधिक अवार्ड और सम्मान का एक हिस्सा है लेकिन असल में यह सम्मान सिर्फ मेरा नहीं पूरे भोजपुरिया समाज और भोजपुरी फिल्म इंडसट्रीज़ का था। यह आपका मेरे प्रति प्यार ही है की मैं जब सेलिब्रेटी डांस शो झलक दिखला जा का हिस्सा बना तो आप लोगो के वोट ने ही मुझे लम्बे समय तक वहाँ टिकाये रखा , वरना मुझ जैसे ठुमका लगाने वाले के लिए तरह तरह के डांस को अंजाम देना आसान नहीं था . इस साल में मेरी एक बड़ी उपलब्धि यह भी रही की मैंने बतौर मुख्य कलाकार एक मराठी फिल्म मध्यमवर्ग की शूटिंग की और फिल्म जल्द ही महाराष्ट्र के सिनेमाघरों में होंगी . साल 2012 की बात करूँ तो यह साल काफी सारे गम भी दे गया . बॉलीवुड को सबसे बड़ा नुकसान हुआ यश चोपड़ा और राजे श खन्ना के चले जाने से। राजेश खन्ना तो खैर लंबी बीमारी से जूझ रहे थे और लगभग रिटायर जिंदगी जी रहे थे पर यश चोपड़ा तो आज भी सक्रिय थे। उनकी शाहरुख खान, कैटरीना कैफ और अनुष्का शर्मा अभिनीत रोमांटिक फिल्म ˜जब तक है जान उनकी मृत्यु उपरांत रिलीज हुई थी। यश चोपड़ा का जाना रोमांस फिल्मों के एक युग की समाप्ति जैसा था . यश चोपड़ा के बड़े भाई बीआर चोपड़ा की फिल्म ˜वक्त की जोहरा जबीं यानी अचला सचदेव का भी इसी साल 30 अप्रैल को निधन हो गया। पाकिस्तान में जन्मीं अचला ने ˜फैशनेबल वाइफ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। ˜ऐ मेरी जोहरा जबीं जैसा रोमांटिक गीत उन पर ही पिक्चराइज हुआ, जो आज तक यादगार है। इसी तरह दारा सिंह भी इस साल ही हमें छोड़ गए। उन्होंने कई धार्मिक फिल्मों में हनुमान, बलराम, भीम जैसे बलशाली पौराणिक कैरेक्टर किये। उन्हें उनकी सेवाओं के लिए राज्यसभा में भेजा गया था। अवतार कृष्ण हंगल उर्फ एके हंगल का लंबी बीमारी के बाद 26 अगस्त को 95 साल की उम्र में निधन हो गया। स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान देने वाले हंगल थियेटर के बड़े नाम थे। उन्होंने हिन्दी फिल्मों में हमेशा कैरेक्टर रोल ही किये। फिल्म ˜शोले के इमाम साहब के रूप में उन्हें आज भी याद किया जाता है। साठ के दशक के चॉकलेटी ब्वॉय जॉय मुखर्जी का जाना काफी दुखद घटना रही इस साल की . अपने कटाक्ष से हर घर तक अपनी पहुच बनाने में सफल रहे हास्य व्यंग के बादशाह जसपाल भट्टी भी साल 2012 में हमें अलविदा कह गए। भगवान् मनोरंजन जगत के इन धुरंधरो की आत्मा को शांति प्रदान करे . अंत में मैं लोगो से इस साल अलविदा लेते हुए अगले साल भी आप लोगो का भरपूर मनोरंजन का वादा करता हूँ . अगले साल हिंदी में मेरी फिल्म मोहल्ला अस्सी, जिला गाजियाबाद, इश्क, लकी कबूतर , मेरे डैडी की मारुती, और बजाते रहो आप लोगो के सामने होंगी जबकि भोजपुरी में धुरंधर, छपरा के प्रेम कहानी प्रतिबन्ध, जीना तेरी गली में, बिजयी भवः, के साथ साथ मेरी कई फिल्मे रिलीज़ होंगी . चलते चलते एक बार फिर आप सबको को नए साल की हार्दिक बधाई . आपका रवि किशन