Tuesday, November 1, 2016

दर्शको का दिल जितने में सफल रही बेटा


युवा निर्माता विकास कुमार की फिल्म निर्माण कंपनी पूर्वांचल टाकीज की दुसरी फिल्म बेटा पिछले शुक्रवार को मुम्बई , गुजरात और बनारस में रिलीज़ हुई।  बनारस के अलावा शेष उत्तर प्रदेश में यह फिल्म दीपावली के दिन यानि ३० अक्टूबर को रिलीज़ हुई और सभी जगह फ़िल्म को शानदार ओपनिंग मिली है ।  जबकि बिहार और झारखंड में छठ के अवसर पर 6 नवम्बर को रिलीज़ होगी।  बेटा के निर्देशक हैं विशाल वर्मा।  फिल्म में   जुबली स्टार निरहुआ , आम्रपाली दुबे ,  अंजना सिंह , किरण यादव , अनूप अरोरा , तेज बहादुर , संतोष श्रीवास्तव , पवन राजपूत और अशोक समर्थ आदि मुख्य भूमिका में हैं जबकि रानी चटर्जी और ग्लोरी पर एक एक सांग फिल्माया गया है । बेटा के लेखक हैं शशि रंजन दवेदी , संगीतकार हैं ओम झा जबकि गीतकार हैं प्यारेलाल कवी जी और श्याम देहाती ।  बेटा के सिनेमेटोग्राफर हैं सी जगन , कोरियोग्राफर हैं राम देवन , सम्पादन का कार्य किया है बी प्रवीण ने , कला निर्देशक हैं नज़ीर शेख और एक्शन डायरेक्टर हैं आर पी यादव जबकि फ़िल्म के प्रचारक हैं उदय भगत   निर्माता विकास कुमार की यह दुसरी फिल्म है।  उनकी पहली फिल्म साजन चले ससुराल २ को बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त  सफलता मिली थी।  शुक्रवार को रिलीज़ हुई बेटा को भी अछि शुरू आत मिली है . अपने बड़े  भाई आलोक कुमार के साथ दस फिल्मो  में बतौर  कार्यकारी निर्माता काम कर चुके विकास कुमार ने बताया की फिल्म निर्माण पूरी तरह से टीम वर्क पर आधारित होता है जिसमे सबका सहयोग रहता है।  बेटा की शूटिंग भीषण गर्मी में बनारस में हुई थी लेकिन कठिनाइयों के वावजूद शूटिंग आसानी  से संपन्न  हुआ।  उन्होंने बताया की सारे कलाकारों और तकनीशियनों का उन्हें भरपूर सहयोग मिला जिसके कारण ही बेटा का निर्माण हो सका।  निर्देशक विशाल वर्मा की यह तीसरी फिल्म है और भोजपुरी फिल्म जगत में उनकी गिनती एक अच्छे तकनीशियन के रूप में और अपनी शर्तो पर काम करने वाले निर्देशक के रूप में होती है।  विशाल वर्मा ने बताया की आम तौर पर भोजपुरी में निर्माता अपने निर्देशको को खुली छूट नहीं देते है और पैसा बचाने की सोचते हैं लेकिन बेटा के निर्माता ने उनपर पूरा भरोसा किया इसीलिए एक अच्छी फिल्म बन कर तैयार हुई।  उन्होंने इस बात से पूरी तरह इनकार किया की उनकी फिल्म बेटा हिंदी फिल्म बेटा की रीमेक है।  उन्होंने बताया की फिल्म का टायटल भले  ही एक  हो पर फिल्म की कहानी पूरी तरह से अलग है। जुबली स्टार निरहुआ इस फिल्म में बनारसी युवक के किरदार में हैं।  जिसका अंदाज़ ठेठ बनारसी है।  अभिनेत्री अंजना सिंह उनसे एक तरफ़ा प्यार करती है पर उसे आम्रपाली दुबे पसंद है जो अपने चाचा के यहाँ रहकर पढ़ाई कर रही होती है।  निरहुआ ने बताया की पहली बार किसी भोजपुरी फिल्म में बनारस का बनारसीपना लोगो को देखने को मिलेगा।  उन्होंने बताया की फिल्म की कहानी काफी सधी हुई है और स्क्रीनप्ले काफी मजबूत है इसीलिए हर दृश्य एक दूसरे से मोती की माला की जुड़ा हुआ है।  उन्होंने बताया की किसी भी फिल्म की शूटिंग शुरू होते ही पता चल जाता है की फिल्म परदे पर किस तरह दिखेगी।  बेटा की तारीफ़ करते हुए उन्होंने कहा की जिस तरह आलोक कुमार की फिल्मो के बारे में लोग बिना फिल्म देखे कह देते हैं की अच्छी फिल्म होगी उसी तरह लोग  अब उनके  भाई विकास  कुमार की फिल्म के बारे में कहेंगे।  उन्होंने कहा की फिल्म में हर वो रंग है जिसे दर्शक पसंद करते हैं पर बेटा महिलाओं को पसंद आने वाली फिल्म है।  अभिनेत्री आम्रपाली दुबे ने कहा की उन्होंने अपने फ़िल्मी कैरियर में अभी तक सत्रह फिल्मे की है और सभी फिल्मे एक से बढ़कर एक है लेकिन बेटा में उनका किरदार काफी अलग है पहली बार किसी फिल्म में वह अपने पिता द्वारा आम लोगो पर किये जा रहे अत्याचार में निरहुआ का साथ देती है।  उन्होंने आशा जताई की बेटा उनकी पहली फिल्म निरहुआ हिंदुस्तानी की तरह महिलाओं की भीड़ सिनेमा हाल तक लाएगी और फिल्म लंबे समय तक दर्शको को याद रहेगी।   उल्लेखनीय है की बेटा में मराठी और टेलीविजन के चर्चित कलाकार अशोक समर्थ मुख्य खलनायक की भूमिका में हैं  . इसके पहले  वे निरहुआ और आम्रपाली की ही फिल्म पटना से पाकिस्तान में दिखे थे जहां उनके काम की जबरदस्त तारीफ़ हुई थी।  बेटा में भी उनके अंदाज़ की जबरदस्त तारीफ़ हो रही है।  बहरहाल , पूर्वांचल टाकीज की बेटा दर्शको का दिल जितने में सफल रही है ।
udaybhagat@gmail.com