Wednesday, August 3, 2016

राम लखन दर्शको की अपनी कहानी है - सतीश जैन


दर्शको से जुड़ना ही है सफलता का मूलमंत्र - सतीश जैन

भोजपुरिया बॉक्स ऑफिस पर आज जिन कुछ गिने चुने निर्देशको के नाम का डंका बजता है उनमे से एक हैं सतीश जैन । हिंदी की कई बड़ी फिल्मो दुलारा , परदेसी बाबू , बाज , हद कर दी आपने सहित कई फिल्मो का लेखन कर चुके सतीश जैन ने कई बड़े निर्देशको के एसोसिएट डायरेक्टर के रूप में काम करने के बाद क्षेत्रीय सिनेमा की ओर रुख किया । मूलतः छत्तीसगढ़ के रहने वाले सतीश जैन ने छत्तीसगढ़ी की कई हिट फिल्में दी । भोजपुरी में उनकी शुरुवात हुई निरहुआ इंटरटेनमेंट की फ़िल्म निरहुआ हिन्दुस्तानी से जो उनकी ही छत्तीसगढ़ी फ़िल्म की रीमेक थी । फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त सफलता हासिल की । उसके बाद इसी प्रोडक्शन हाउस की निरहुआ रिक्शावाला 2 का निर्देशन किया । इस फ़िल्म ने भी सफलता का नया कीर्तिमान स्थापित किया । सतीश जैन की अगली फ़िल्म राम लखन है । सतीश जैन से उनकी भोजपुरी फ़िल्मी सफ़र पर विस्तृत चर्चा हुई । प्रस्तुत है कुछ अंश :
भोजपुरी फिल्मो में आगमन कैसे हुआ ?
ये एक दिलचस्प कहानी है । मेरी छत्तीसगढ़ी फ़िल्म लैला टीप टॉप छैला अंगूठा छाप सुपर हिट हुई थी और उसे भोजपुरी में डब किया गया था । मुम्बई के फ़िल्म वितरक राजेश पप्पू ने फ़िल्म को रिलीज़ किया था । उन्होंने फ़िल्म देखने के बाद दिनेश लाल यादव निरहुआ से इस फ़िल्म की चर्चा की तो निरहुआ ने भी उस फ़िल्म को देखा । फ़िल्म देखने के बाद हमारी उनसे मीटिंग तय हुई और उन्होंने इस फ़िल्म को भोजपुरी में बनाने की बात कही । फ़िल्म के निर्देशन और लेखन की जिम्मेवारी मुझे दिया गया । निरहुआ हिन्दुस्तानी नाम की इस फ़िल्म के लेखन में संतोष मिश्रा ने मेरी मदद की और उसे भोजपुरिया रंग में रंग दिया । फ़िल्म रिलीज़ हुई और जबरदस्त सफल हुई । इस फ़िल्म के तुरत बाद ही निरहुआ रिक्शा वाला 2 के निर्माण की घोषणा कर दी गयी ।
राम लखन की इन दिनों काफी चर्चा है । किस तरह की फ़िल्म है ? 
नाम सुनकर सबको एहसास होगा की यह एक पारिवारिक फ़िल्म है लेकिन मेरी नज़र में यह एक सम्पूर्ण फ़िल्म है । इस फ़िल्म का केंद्र परिवार तो है लेकिन उसके इर्द गिर्द मनोरंजन का हर मसाला है जिसे हर उम्र और हर वर्ग के दर्शक देख कर फ़िल्म का लुत्फ़ उठा सकते हैं । राम लखन एक अच्छी कहानी पर बनी एक ऐसी फ़िल्म है जिसे देखकर दर्शको को लगेगा की यह तो हमारे घर की , पड़ोस की और गाँव की कहानी है ।
फ़िल्म के किरदारों के बारे में बताइये ?
राम लखन आप देखेंगे तो आपको लगेगा की कोई भी किरदार अभिनय नहीं कर रहा बल्कि हर किरदार खुद को अभिनय में जी रहा है । निरहुआ , आम्रपाली , प्रवेश , शुभी हो या बाकी के कोई भी किरदार सबने अपना स्वाभाविक अभिनय किया है । मैं यहाँ प्रवेश लाल का जिक्र ज़रूर करना चाहूँगा । पूरी फ़िल्म में वो कहीं भी फ़िल्मी किरदार नहीं बल्कि निरहुआ का छोटा भाई ही नज़र आएगा । एक छोटा भाई जो घर का लाडला हो , उसका वर्ताव किस तरह का होना चाहिए वह सब उसमे आपको दिखेगा । निरहुआ एक परिपक्व और मंझे हुए अभिनेता है । उनकी जितनी तारीफ़ की जाय कम है ।
आपकी नज़र में एक भोजपुरी  फ़िल्म के हिट होने का क्या फार्मूला है ?
अन्य फ़िल्म जगत और भोजपुरी में काफी अंतर है । हमारे दर्शक उसी फ़िल्म को पसंद करते हैं जिनमे उन्हें अपनी बात अपनी कहानी लगती है । चाल चलन , पहनावा , इन छोटी छोटी बातों पर उनकी नज़र होती है । गाने अच्छे हो तो सोने पर सुहागा । कहानी अच्छी हो और जो सबसे बड़ी बात है स्टार वैल्यू । हमारे दर्शक भले ही निम्न और मध्यमवर्ग के हो पर फिल्मो को परखने की उनकी क्षमता जबरदस्त होती है । इसीलिए दर्शको को अगर अपनी फ़िल्म से बाँधना है खासकर महिलाओ को तो उन्हें एक सम्पूर्ण फ़िल्म देनी होगी ।
इस परिपेक्ष में राम लखन को आप कितना मार्क्स देंगे ?
किसी भी फ़िल्म को जज करने का अधिकार सिर्फ दर्शको को है । अपना बच्चा हर किसी की प्यारा होता हैं। मैं भले ही दर्शक के नज़रिये से देखूं तब भी मुझे मेरी फ़िल्म की खामिया मुझे नज़र नहीं आएगी । मैंने राम लखन को मेरी पिछली फिल्मो से बेहतर बनाने की पूरी कोशिस की है । मेरे निर्माता प्रवेश लाल , मेरे सभी कलाकार का मुझे भरपूर सहयोग मिला है । मुझे पूरा भरोसा है की राम लखन दर्शको को बहुत पसंद आएगी ।
आपकी आने वाली फ़िल्म कौन कौन सी है ?
दिलवाला प्रदर्शन के लिए तैयार है । इसके अलावा निरहुआ इंटरटेनमेंट की ही अगली फ़िल्म के प्री प्रोडक्शन का काम चल रहा है । हमारे निर्माता जल्द ही इसकी घोषणा करेंगे । 
udaybhagat@gmail.com