Wednesday, September 5, 2012

मुन्नी राधा के बीच फंसी अक्षरा

भोजपुरी फिल्मो की जानी मानी अदाकारा अक्षरा सिंह इन दिनों मुन्नी और राधा के बीच फंसी नजर आ रही है , वो खुद भी तय नहीं कर पा रही है की वो खुद को मुन्नी समझे या फिर राधा. दरअसल अक्षरा इनदिनों इसी शुक्रवार रिलीज़ हुई अपनी फिल्म कालिया के प्रोमोशन पर है . अक्षरा के मेराथन प्रोमोशन में उसके साथ फिल्म के हीरो हैदर काजमी व खलनायक विपिन सिंह भी है . हाजीपुर, बेतिया, गोपाल गंज, बिहार शरीफ या फिर जहानाबाद हर जगह अक्षरा की मौजूदगी से सिनेमाघरों में भीड़ उमड़ रही है . महिला दर्शक जहाँ अपनापन के साथ उनका स्वागत कर रही है, वहीँ युवा वर्ग की ओर से अक्सर कहा जा रहा है ए राधा मुन्नी बदनाम भइल डार्लिंग तोहरे खातिर . कालिया में उनके किरदार का नाम राधा है जबकि हाल ही में रिलीज़ हुई उनकी फिल्म एक बिहारी सौ पे भारी में उनका नाम मुन्नी है जो निरहुआ से प्यार जताते हुए अक्सर कहती है मुन्नी बदनाम भइल डार्लिंग तोहरे खातिर. एक बिहारी में उनका यह तकिया कलाम आज कल बिहार के लोगो के सर चढ़ कर बोल रहा है . इसी का नतीजा है की वो जहाँ भी जा रही है उनके ही डाईलॉग द्वारा उन्हें पुकारा जा रहा है . अक्षरा सिंह ने अपने इस संबोधन पर ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा की कोई कलाकार तभी लोगो के दिल में जगह बना पाता है जब उनका किरदारदर्शको के जेहन में बस जाता है . उन्होंने कहा की उन्होंने खुद भी कभी नहीं सोचा था की बिहार में उनके इतने प्रशंषक है .